प्लास्टिक के कचरे से बन रहा क्रूड ऑइल

प्लास्टिक के कचरे से बन रहा क्रूड ऑइल

बिहार के मुजफ्फरपुर निवासी संतोष ने प्लास्टिक से क्रूड ऑइल बनाने की सफलता पायी है। इस महंगाई मे  देसी प्लांट के जरिये इसे सस्ता बना दिया। एक किलो प्लास्टिक से 700 मिली. लिटर क्रूड ऑइल निकल रहा है। एक लिटर को बनाने मे खर्च 35 रुपये जबकि बिक्री 45 रुपये प्रति लीटर हो रही है।

संतोष ने इसका अध्ययन के बाद यह तकनीक सीखी,फिर देसी तरीके से प्लांट बनाया । इस सफलता के बाद अब वह प्लांट को बड़ा रूप देकर पेट्रोल व डीजल निकालने के लक्ष्य पर काम कर रहे है।

40 वर्षीय संतोष की साइन्स मे बचपन से ही गहरी रुचि है। लेकिन आर्थिक तंगी के कारण से इंटर साइन्स के बाद की पढ़ाई पूरी नहीं कर सके । उसके बाद वह एक फैक्ट्री मे काम करते समय उन्होने प्लास्टिक व पेट्रोलियम के अनुसूत्र का गहराई से अध्ययन किया । उन्होने सोशल साइटो पर खोजा और पाया कि प्लास्टिक को तोड़ा जाए तो इसमे से पेट्रोलियम पदार्थ निकाला जा सकता है।

इसके बाद उन्होने सीखना चालू किया और प्रयोग करते गये ।जिसमे संतोष को सफलता मिलती चली गयी। उसके बाद सबसे बड़ी मुश्किल प्लांट को तैयार करना था जिसमे उनकी सारी जमा पूंजी खर्च हो गयी। लेकिन उनको अपने हौसलों को उड़ान देना था,तो उन्होने घरेलू कामकाज व कबाड़ मे फेकी गयी वस्तुओ के इस्तेमाल से ही प्लांट तैयार कर डाला। कुछ वस्तुओ के लिए उन्हे कर्ज़ भी लेना पड़ा।

ऐसा कहते है न कि मेहनत ज़रूर रंग लाती है। उनकी मेहनत रंग लायी,और इस देसी प्लांट से क्रूड ऑइल निकालने लगा ।अब वो कुछ बेरोजगारो को इस प्लांट मे रोजगार भी दे रहे है।

संतोष का प्रयोग अगर बड़े स्तर पर सफल हो जाएगा तो नगर विकास व आवास विभाग प्लास्टिक कचरे से क्रूड ऑइल का निर्माण राज्य के सभी निगम क्षेत्रो मे कराएगा। इससे कचरा प्रबंधन के साथ – साथ प्रदूषण को भी नियंत्रित करने मे मदद मिलेगी ।

 

उज्जवल कुमार सिन्हा

न्यूज़नेट इनटर्न

Leave a Reply

Your email address will not be published.