जल्द ही आधार धारको को आधार वापस लेने का विकल्प मिलेगा

सरकार आधार अधिनियम में संशोधन करने के प्रस्ताव को अंतिम रूप देने के आखिरी चरणों में है, ताकि सभी नागरिकों को बायोमेट्रिक्स और डेटा समेत अपना आधार नंबर वापस लेने का विकल्प दिया जा सके।

यह सितंबर में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करता है, हालांकि कुछ सवालों के साथ आधार की वैधता को बरकरार रखा गया।

संविधान बेंच ने अधिनियम की धारा 57 को रद्द किया था जो निजी संस्थाओं को सत्यापन के लिए अद्वितीय संख्या का उपयोग करने की अनुमति देता है। बेंच ने यह भी घोषणा की कि बैंक खातों और सिम कार्ड से जुड़ने की मांग असंवैधानिक थी।

यूआईडीएआई प्रस्ताव

प्रारंभिक प्रस्ताव भारत की यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ़  इंडिया (यूआईडीएआई) द्वारा तैयार किया गया था। यह प्रस्तुत किया गया कि एक बार जब बच्चा 18 वर्ष का हो जाता है, तो उसे यह तय करने के लिए छह महीने दिए जाएंगे कि वह अपना आधार वापस लेना चाहता है या नहीं।

यह प्रस्ताव कानून मंत्रालय को भेजा गया था और मंत्रालय ने आगे सिफारिश की है कि सभी नागरिकों को वापस लेने का विकल्प उपलब्ध कराया जाए, और किसी विशेष समूह तक ही सीमित न हो।

स्थानीय खबरों के अनुसार, प्रस्ताव, अब मंत्रिमंडल को भेजा जाएगा, लेकिन केवल उन लोगों को लाभ पहुंचाने की संभावना है जिनके पास पैन कार्ड नहीं है या उसकी आवश्यकता नहीं है, क्योंकि अदालत ने आधार के साथ पैन के जुड़ाव बरकरार रखा है।

12 मार्च, 2018 तक 37.50 करोड़ से अधिक पैन जारी किए गए। इनमें से, व्यक्तियों को जारी किए गए पैन की संख्या 36.54 करोड़ से अधिक थी, जिनमें से लगभग 16.84 करोड़ पैन आधार से जुड़े हुए हैं।

अदालत के आदेश के मुताबिक, प्रस्ताव यह तय करने के लिए एक निर्वाचन अधिकारी नियुक्त करना चाहता है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में किसी व्यक्ति के आधार से संबंधित डेटा का खुलासा किया जाए या नहीं।

अदालत ने धारा 33 (2) को भी रद्द किया था, जिसमे संयुक्त सचिव से नीचे के अधिकारी के आदेश पर राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों के लिए आधार के जानकारी का खुलासा करने की अनुमति दी थी। उसने कहा था कि संयुक्त सचिव के ऊपर के अधिकारी को न्यायिक अधिकारी से परामर्श लेना होगा तभी एक साथ इसपे काम होगी ।