प्रेमचंद रंगशाला में हुआ किन्नर महोत्सव, दिखे अद्भुत नज़ारे

प्रेमचंद रंगशाला में हुआ किन्नर महोत्सव, दिखे अद्भुत नज़ारे

पटना:14 जुलाई की शाम पटना के प्रेमचंद रंगशाला में कई अद्भुत और दिल को छू लेनेवाले नज़ारे देखने मिले। किन्नर महोत्सव 2019 के अवसर पर भारत के किन्नर समाज से जुड़ी कई महत्वपूर्ण और बड़ी हस्तियाँ कल प्रेमचंद रंगशाला में मौजूद थी। इस मौके पर बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशिल कुमार मोदी पदम्श्री से सम्मानित होनेवाली पहली किन्नर डॉ नर्तकी नटराज और भारत की पहली किन्नर जज जोईता मंडल समेत कई गणमान्य लोग उपस्थित थे। महोत्सव की शुरुवात उप-मुख्यमंत्री ने अपने अन्य मंत्री साथियों और गणमान्य लोगों के साथ दीप प्रज्जवलित करके किया।

किन्नर हमारे समाज का एक हिस्सा है पर अभी तक उनको वो अधिकार नहीं मिल पाएं हैं जिनके वो हक़दार है। किन्नेरों को अभी भी समाज में हीन भावना के साथ देखा जाता है। ऐसे में इस महोत्सव का मकसद समाज में किन्नरों को न्याय दिलाने के रूप में भी देखा जा सकता है। प्रेमचंद रंगशाला में कल शाम किन्नर महोत्सव के मौके पर कई कार्यक्रम आयोजित किये गए। इस कार्यक्रम की शुरुआत पद्मश्री डॉ नर्तकी नटराज की बेहतरीन नृत्य प्रस्तुति के साथ हुआ।

नर्तकी नटराज की प्रस्तुति के बाद प्रेमचंद रंगशाला लोगों की तालियों की गरगराहट से गूँज उठा। इसके बाद स्वागत गीत पर आधारित एक प्रस्तुति दोस्ताना सफर के द्वारा पेश किया गया। इस मौके पर बिहार से ही नहीं बल्कि देश के कई हिस्सों से कलाकार अपनी प्रस्तुति देने के लिए पटना पहुंचे थे। किन्नर महोत्सव के मौके पर दिल्ली,  हरियाणा, बंगाल और छत्तीसगढ़ के कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से प्रेमचंद रंगशाला में मौजूद सभी लोगों का मन मोह लिया। हर एक नृत्य पर पटना वासियों ने जमकर तालियां बजाई और कलाकारों का हौसला बढ़ाया।

SEE ALSO  Smart city, smarter students?

इस अहम मौके पर मौजूद बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशिल कुमार मोदी ने कहा की किन्नर, समाज में उपेछित लोग है, कोई इन लोगों को माकन किराये पर देने के लिए तैयार नहीं होता है, कोई नौकरी देने के लिए तैयार नहीं होता, स्कूल में एडमिशन मिलाना भी इनलोगों के लिए काफी मुश्किल है। मोदी ने कहा की ये उपेक्षा बहुत दिनों तक नहीं चलेगी और समाज के उत्थान के लिए बिहार सरकार को जो भी कुछ करना होगा हम वो करेंगे। किन्नर महोत्सव में उपस्थित भारत की पहली महिला किन्नर जज जोईता मंडल ने कहा की ना तो मैं मर्द हूँ, ना मैं औरत हूँ,  ना मैं अच्छी हूँ ना मैं बुरी हूँ। मैं एक मासूम दिल की हूँ प्यार और इज़्ज़त की भूखी हूँ। कुछ पंक्तियों में ही जोईता मंडल ने अपने पुरे किन्नेरों की व्यथा को पुरे समाज के सामने रख दिया।

किन्नर महोत्सव के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभानेवाली समाज सेविका शमा प्रसाद ने कहा की आज हमें आवश्यकता है की जिस तरह छत्तीसगढ़,  केरला और तमिलनाडु राज्यों में किन्नेरों के लिए विकाश के कार्य हो रहें हैं उन योजनाओं को बिहार की सरकार भी लागू करे। गौरतलब है की किन्नर महोत्सव के शुरू होने से पहले किन्नर समाज के द्वारा प्राइड परेड का आयोजन किया गया था। जिस मे पटना के हजारों लोगों ने हिस्सा लिया और इस परेड को सफल बनाया।

SEE ALSO  ग्राउंड रिपोर्ट: ट्रेन टिकट चेकिंग अभियान मे बिना टिकट पकड़े गए सैंकड़ों यात्री!

रोहित कुमार