सुपरमार्केट की आपूर्ति करने वाले खेतों में श्रमिकों का शोषण: ऑक्सफेम रिपोर्ट

सुपरमार्केट की आपूर्ति करने वाले खेतों में श्रमिकों का शोषण: ऑक्सफेम रिपोर्ट

चैरिटी द्वारा प्रकाशित नए शोध के अनुसार, एलडीएल, एल्डी, सेंसबरी, टेस्को और मॉरिसन सहित प्रमुख यूके सुपरमार्केट्स को ताजे फल या चाय की आपूर्ति करने वाले खेतों और बागानों पर खराब भुगतान और दंडात्मक कार्य की स्थितियां आम बात हैं।

ऑक्सफेम के अनुसार, यूके के बड़े सुपरमार्केटों की आपूर्ति करने वाले खेतों और बागानों के श्रमिकों को गरीबी और मानवाधिकारों के हनन का शिकार होना पड़ता है।

एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय चैरिटी ने सुपरमार्केट्स द्वारा मुनाफे को अधिकतम करने के लिए लागतों में कटौती करने और दयाहीन व्यवहार की आलोचना की, जो भारत और ब्राजील में उत्पन्न करनेवाले आपूर्ति खेतों और बागानों के श्रमिकों में गरीबी, दुर्व्यवहार और लिंग भेदभाव को बढ़ावा दे रहा है।

ऑक्सफैम ने भारत और ब्राजील में शोध किया और पांच अन्य देशों में श्रमिकों का सर्वेक्षण किया।

असम में 50 चाय बागानों के श्रमिकों ने ऑक्सफैम को बताया कि वहां हैजा और टाइफाइड “प्रचलित है क्योंकि श्रमिकों के पास शौचालय और सुरक्षित पेयजल तक की पहुंच नहीं है”। इसने कहा कि आधे कामगारों को कम वेतन के कारण सरकार से राशन कार्ड मिला है, जबकि महिला कर्मचारियों को नियमित रूप से दिन में 13 घंटे  लगातार काम करने होते है।

चैरिटी ने कहा कि टेस्को, सेन्सबरी, मॉरिसन सभी उन कंपनियों से अपनी ब्रांड की चाय को मँगवाते है जिनके आपूर्तिकर्ताओं में शामिल होने वाले सम्पदा शामिल हैं और एल्डी अन्य वैश्विक सुपरमार्केट में से एक है जिन्होंने असम क्षेत्र से अपने ब्रांड की चाय का स्रोत बनाया।

ऑक्सफैम ने पाया कि, ब्रिटेन में 100g काली असम चाय के एक पैकेट के लिए दुकानदारों द्वारा भुगतान किए गए 79p में से, सुपरमार्केट और चाय ब्रांडों को 49p प्राप्त होता है, जबकि श्रमिकों को सिर्फ 3p प्राप्त होता है।

ब्राज़ील में फलों के खेतों पर काम करने वालों ने ऑक्सफ़ैम को बताया कि उन्होंने पर्याप्त सुरक्षा के बिना कीटनाशकों के उपयोग से त्वचा खराब हो गयी है।

अंगूर, तरबूज और आम के खेतों पर काम करनेवाली महिलाओं ने भी कहा कि उन्हें फसल के मौसम के बाद सरकारी देन पर निर्भर रहना पड़ता है।

ऑक्सफैम के एथिकल ट्रेड मैनेजर, राहेल विल्शॉ ने कहा: “सुपरमार्केट के शोषण को समाप्त करने के लिए अधिक मैहनत करना चाहिए, अपने सभी श्रमिकों को मजदूरी का वाजिब भुगतान करना चाहिए, यह सुनिश्चित करना चाहिए कि महिलाओं को उचित सौदा मिले और वे अपने उत्पादों के स्रोत के बारे में अधिक पारदर्शी हों।”

ऑक्सफैम की सर्वेक्षण में तीन चौथाई श्रमिकों को यह कहते हुए पाया गया कि उन्हें भोजन और आवास जैसी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त भुगतान नहीं किया जाता है। एक तिहाई से अधिक लोगों ने कहा कि वे काम पर चोट या नुकसान से सुरक्षित नहीं थे और जरूरत पड़ने पर टॉयलेट ब्रेक लेने या पानी पीने भी नही दिया जाता है।

हालांकि, ब्रिटिश रिटेल कंसोर्टियम (BRC) में स्थिरता के प्रमुख, पीटर एंड्रयूज ने कहा: “ब्रिटेन में सुपरमार्केट दुनिया भर के लाखों लोगों के जीवन में सुधार लाने के उद्देश्य से कार्रवाई कर रहा है।

“हमारे सदस्य मौजूदा अन्याय को संबोधित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं और इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर गैर-सरकारी संगठनों ,व्यापारिक समूहों और सरकार के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सहयोग कर रहे है।”

एल्डि के प्रवक्ता ने कहा: “हम यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं कि हमारी आपूर्ति श्रृंखला में काम करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के साथ उचित व्यवहार किया जाए और उनके मानवाधिकारों का सम्मान किया जाए”।

Leave a Reply

Your email address will not be published.