केंद्र सरकार है कर्जदार : ‘केशलेस’ स्वास्थ्य योजना हुआ ठप्प !

केंद्र सरकार है कर्जदार  : ‘केशलेस’ स्वास्थ्य योजना हुआ ठप्प !

जब तक सरकार 125 करोड़ रुपये तक के लंबित बिलों को मंजूरी नहीं देती निजी अस्पतालों ने अगले महीने से केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) के लाभार्थियों का कैशलेस सुविधा वापस लेने की बात की है।
इस योजना के तहत दी जाने वाली विभिन्न प्रक्रियाओं के लिए दरों में संशोधन की भी मांग की है।
एसोसिएशन ऑफ हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स इंडिया (एपीएचआई) के अनुसार, कि सीजीएचएस के तहत केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनरों के इलाज के लिए बनाए गए अधिकांश अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं की अदायगी समय के भीतर प्रतिपूर्ति नहीं की जाती है ।


एपीएचआई के महानिर्देशक गिरधर ज्ञानी ने कहा है की “अगर इन मुद्दों को तुरंत हल नहीं किया गया , तो दिल्ली, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक और देश के अन्य राज्यों में 15 जनवरी सीजीएचएस लाभार्थियों से कैशलेस सुविधा वापस लेने के लिए विवश होना पड़ेगा।”


उन्होंने कहा, “अस्पतालों का मानना है कि यह कदम मौजूदा विसंगतियों को दूर करने और सभी लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने वाली बेहतर कार्य प्रणाली स्थापित करेगा।”


एपीएचआई के अनुसार, 100 करोड़ रुपये से 125 करोड़ रुपये की कुल लंबित बिल राशि मे, पेंशनरों सहित 26 लाख से अधिक लाभार्थियों को कवर किया गया है।


उन्होंने कहा कि सीजीएचएस से भुगतान नहीं होने के कारण विदेशी विनिमय दर में वृद्धि और धन की कमी के कारण, अस्पतालों को भारी कर्ज मे डुबना पड़ रहा है।


एसोसिएशन, जो देश भर में लगभग 10,000 निजी और धर्मार्थ अस्पतालों का प्रतिनिधित्व करने का दावा करती है, ने सरकार से विभिन्न प्रक्रियाओं के लिए दरों के संशोधन, भुगतान संरचना में विसंगतियों और चल रहे बिलों से अनधिकृत कटौती की वापसी की मांग की है।


हालांकि, सीजीएचएस के लाभार्थी सीजीएचएस टैरिफ में भुगतान के खिलाफ उपचार जारी रख सकते हैं,


इस मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए प्रख्यात कार्डियक सर्जन देवी शेट्टी ने कहा ” यह महत्वपूर्ण है कि सीजीएचएस योजनाओं के लिए पारिश्रमिक और समय पर भुगतान मानकीकृत हो। इससे धर्मार्थ और निजी अस्पतालों को सभी सरकारी प्रायोजित स्वास्थ्य योजनाओं के लिए अपनी सेवाओं का विस्तार करने में मदद मिलेगी। । “


उन्होंने कहा कि सीजीएचएस योजना के लिए जरूरी है कि वह नेटवर्क अस्पतालों के साथ काम करे और उनकी शिकायतों को दूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.