“बिहार के डोम”- पुस्तक विमोचन

“बिहार के डोम”- पुस्तक विमोचन

1 सितम्बर को पटना के गांधी संग्रहालय में जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल रिसर्च (XISR)) ने “बिहार के डोम” : जीवन-संघर्ष, श्मशान से सड़क तक का पुस्तक विमोचन किया। कार्यक्रम में पुस्तक के लेखक प्रेरणा(जनवादी सांस्कृतिक मोर्चा) के निदेशक हसन इमाम भी मौजूद थे जिसमें उन्होनें पुस्तक पर चर्चा करते हुए यह बताया की यह पुस्तक […]

Book on Doms’ life launched at Gandhi Sangrahalay

Book on Doms’ life launched at Gandhi Sangrahalay

Only a bibliophile understands what book means to them. A program of book launch was organized by Xavier’s Institute of Social Research in Gandhi Sangrahalay ,Patna for the launch of the book “Bihar Ke Dom: Jeevan Sangharsh, Shamshaan se Sadak tak” by Hasan Imam. Hasan Imam said,  the title of this book “Bihar Ke Dom: […]

चौबीस गाँव के लोग बनाएंगे गाँव के नाम को अपना सरनेम

चौबीस गाँव के लोग बनाएंगे गाँव के नाम को अपना सरनेम

जात-पात की प्रथा भारत मे सालों से चली आ रही है। जात-पात और छुआ-छूत की वजह से भारत मे ना जाने कितने लोगों से साथ अन्याय होता आ रहा है। अभी हम 2019 मे जी रहें हैं पर अभी भी कहीं न कहीं हमारे समाज से जात-पात की भावना पूरी तरह से खत्म नहीं हो […]

क्या छुआ –छूत के नियम सिर्फ कागज़ो पर है?

क्या छुआ –छूत के नियम सिर्फ कागज़ो पर है?

एक दृश्य16 जून की सुबह मै अपने गाँव मे थी वहाँ कुछ बच्चे चापाकल स्नान कर रहे थे उसी वक़्त एक ब्राह्मण आया और उन बच्चो को हटने बोला फिर चापाकल को इस्तेमाल करने से पहले बच्चों की  जाति पुछी । यह कोई बड़ी बात नहीं है पर यह छोटी सी घटना मुझे यह सोचने […]

Braving all odds, TG stands for elections

Braving all odds, TG stands for elections

Gender has nothing to do with ability but the stereotypical thought process of the Indian society has always discriminated on gender and when it comes on transgender the condition is worst. People think that transgender cannot do anything. We are citizens of India and voting is our right and that is the importance of elections […]

हरिजन टोला आज भी भेदभाव से ग्रसीत- कुर्कीहर

हरिजन टोला आज भी भेदभाव से ग्रसीत- कुर्कीहर

बिहार चुनाव  मे 11 अप्रैल को कर रहे मतदान मे औरंगाबाद, नालंदा और जमुई के साथ गया  15 लाख मतदाताओं में से 30.33% प्रतिशत मतदान करनेवाले अनुसूचित जाति (एससी) के लिए आरक्षित एक निर्वाचन क्षेत्र  है   इस गाँव में कीचड़ वाली गली के बाईं ओर, राजगीर के रास्ते में वजीरगंज से थोड़ा आगे, गया […]

होली के कई रंग

होली के कई रंग

खट्टे मीठे दहीवड़े, मावे से भरे पुए, चाट पकोड़े और मुह मे पानी लाने वाले ढेर सारे पकवान जो सब मज़े से होली पर चटकाते है पर कभी सोचा, इन्हे बनाने वालो की क्या हालत होती है। सुबह माँ के साथ किच्चन मे जाओ तो सीधे शाम को बाहर आओ । ये बनाओ वो बनाओ […]

Act against law that Discriminates

Act against law that Discriminates

Ending discrimination is the responsibility of all, everyone can play a part in ending discrimination and can try to make a difference big or small. Discrimination undermine efforts to achieve a more just and equitable world and causes pain and suffering for many. Zero discrimination day is celebrated on 1st of March, call for ending […]

Come together for Zero Discrimination…

Come together for Zero Discrimination…

Do we discriminate against our neighbours? Think about it on ZERO DISCRIMINATION DAY. (That’s today!) March 1 is celebrated as Zero Discrimination Day and it is very important for people and especially people living in India. Being a large country with large population, India is the land of many languages, it is only in India […]

Right wing US Governor saps LGBT pride

Right wing US Governor saps LGBT pride

A  special report  in ‘The Charlotte Observer’ investigated the extent of anti-LGBT discrimination in North Carolina  (USA) in the wake of the state’s discriminatory House Bill 2 (HB 2), finding that LGBT people have “for years been subjected to bullying, harassment, discrimination and sometimes violence” and that HB 2 “heightens fear in North Carolina.” The […]

I want to break free (from male domination!)

I am tired of this world created by men, ruined by men. I want a woman now to build the world or mess it up. I also realize that a woman is the Dalit in every case. Even when you look at savarnas [forward castes], the woman is secondary. Even a Dalit man would look […]