तंबाकू की खपत में 22.6% की गिरावट

तंबाकू की खपत में 22.6% की गिरावट

बिहार में धूम्रपान करने वाले तम्बाकू की तुलना में धुआं रहित तम्बाकू का अधिक सेवन किया जाता है। धुआं रहित तंबाकू – जैसा खैनी, गुटका , आदि – का उपयोग या तो चबाकर , सूंघकर या मसूड़ों के बीच रखकर  किया जाता है।

वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण (GAST-2) 2016-17 के अनुसार, बिहार में 23.5% लोगों ने धुआं रहित तंबाकू और 5.1% धूम्रपान के रूप तंबाकू का उपयोग करते है। हालांकि, 2009-10 से 2016-17 मे तंबाकू की कुल खपत में 22.6% की गिरावट आई है।

डॉ अजय कुमार, शाही राज्य कार्यक्रम अधिकारी ने GAST-2 के आंकड़ों को साझा करते हुए कहा कि 20.4% लोग खैनी, 4.2% बीड़ी, 3.7% गुटखा और 3.4% तंबाकू के साथ सुपारी का सेवन करते हैं।

कैंसर जागरूकता सोसाइटी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, डॉ एए हाई, ने शुक्रवार को स्थानीय मीडिया को बताया कि हालांकि राज्य में तम्बाकू की खपत में गिरावट आई है, इसे नियंत्रित करने के लिए और भी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। खास तौर पर तंबाकू का धुआं रहित रूप पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

“इनमे बड़े मुद्दे ये है, की सिगरेट या गुटखा के पैकेट की तरह खैनी के पैकेट में वैधानिक चेतावनी और फोटो के साथ नहीं बेचा जाता है,” डॉ ने कहा

उन्होंने कहा कि राज्य में सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (COTPA) को ठीक से लागू नहीं किया गया है। यह अधिनियम किसी भी शैक्षणिक संस्थान के 100 गज के दायरे में तंबाकू को प्रतिबंधित करता है और सार्वजनिक स्थानों पर नो स्मोकिंग एरिया’, या धूम्रपान करना अपराध है’ जैसे कई अन्य नियमों के साइन होने चाहिए।

लोगों के स्वास्थ्य पर तंबाकू के प्रभाव के बारे में बात करते हुए, डॉ हाई ने कहा: “तंबाकू शरीर के सभी अंगों को प्रभावित करता है – यह मस्तिष्क, फेफड़े, पाचन तंत्र या कोई अन्य अंग हो।”

उन्होंने कहा कि बिहार में ऊपरी पाचन तंत्र में और मुंह के कैंसर के मामले आम हैं, खासकर पुरुषों में। “यह इस तथ्य को साझा करता है कि महिलाओं की तुलना में पुरुष अधिक तंबाकू का सेवन करते हैं,” डॉ ने बताया।

2015-16 के राष्ट्रीय पारिवारिक स्वास्थ्य आंकड़ों के अनुसार, 50.1% पुरुष राज्य में तम्बाकू का सेवन करते हैं, जबकि महिलाओं का केवल 2.8 प्रतिशत था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.